असम की चाय कर रही कोरोना का इलाज!!!

नई दिल्ली. आज पूरी दुनिया में कोरोना का प्रभाव तेज़ी से फैल रहा हैं. दुनिया के बहुत सरे देश इसके दवा के लिए लगे हुये हैं. लेकिन इसके लिए अभी तक कोई दवाई नहीं बनी हैं. इसके लिए सभी देश अपने लोगों से आग्रह किया हैं, वे अपनी इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity System) को बनाये रखें. क्योंकि अभी कोरोना से बचने के लिए यही एक साधन दुनिया को पता चला हैं.

असम में पाई जाने वाली चाय बेहद कारगर

एक शोध में इस बात का पता चला हैं कि इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity System) को बढ़ाने के लिए असम के बगानों में पाए जाने वाली चाय बेहद कारगर हैं. यह कोरोना को मात देने में काफ़ी हद तक कारगर साबित हो रही हैं.

दुसरे देश भी भारतीय चाय बागन पर निर्भर 

एक रिपोर्ट में दावा किया गया हैं चीन भी अपने यहाँ कोरोना वायरस को जड़ से ख़त्म करने के लिए भारतीय चाय बजार पर ही निर्भर हैं. यहाँ आपको एक बात बताते चले कि चीन में ग्रीन टी सबसे ज्यादा होती हैं. लेकिन भारत मे ब्लैक टी का उत्पादन सबसे ज्यादा होता हैं और ब्लैक टी शारीर में इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity System) को बढ़ाने में काफ़ी कारगर हैं.

ग्रीन और काली टी में अंतर

यहाँ आपको बतात्ते चले कि ग्रीन टी में दूध नहीं डाला जाता हैं. लेकिन ब्लैक टी में दूध डाला जाता हैं. जिससे इसका रंग हल्का रेड(लाल) हो जाती हैं. जिसके कारण इसे रेड टी भी कहा जाता हैं. यह चाय शरीर को सूजन, फ्लू, फेफड़ों और श्वसनतंत्र को वायरस और बैक्टीरिया से बचाती है.

चीन में हुए शोध के अनुसार

ब्लैक टी पर चीन में हुए शोध में पता चला कि  इस टी में थिफ्लेविन्स नामक तत्व पाया जाता हैं,, जो इंफ्लुएंजा और सांस संबंधी रोगों से बचने में शरीर की मदद करता है. इसी प्रकार का दावा असम में स्थित चाय अनुसंधान केंद्र ने भी दावा किया है कि काली पत्तियों से तैयार ब्लैक टी यानी रेड टी  शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है.

आयुष मंत्रालय ने भी इसकी पुष्टि की 

आयुष मंत्रालय ने भी अपने बयान में कहा हैं कि कोरोना वायरस से बचने के लिए हमें अपनी इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity System) को बढ़ाना होगा. मंत्रालय ने कहा हैं कि काढ़ा, तुलसी की चाय, गर्म पानी का सेवन जैसे घरेलू उपायों को प्रयोग करना चाहिए. इसमें रेड टी भी काफ़ी लाभदायक सिद्ध हो रही हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *