डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा अमेरिका डब्ल्यूएचओ के साथ संबंध समाप्त कर रहा है

  • डब्ल्यूएचओ का फंड को अब दुनिया के दूसरे स्वास्थ्य संगठनों की मदद में इस्तेमाल किया जाएगा
  • चीन के नए नियंत्रणों के जवाब में अमेरिका हांगकांग के विशेष उपचार को समाप्त कर देगा

नई दिल्ली. अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ अपने संबंधों को समाप्त कर रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार मीडिया से बातचीत के दौरान ये महत्वपूर्ण घोषणा की. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है की दुनिया भर में कोविद-19 महामारी के कारण हुई मौतों और विनाश के लिए चीन जिम्मेदार है. ट्रम्प ने कहा है कि डब्ल्यूएचओ संगठन पर पूरी तरह से चीन का कब्जा है.

अमेरिका ने इससे पहले डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली सालाना मदद रोकी थी. डोनाल्ड ट्रम्प ने यह भी घोषणा की “अमेरिका होंग- कोंग का विशेष उपचार समाप्त करेंगे”.

ये है पूरा मामला

इस बात में कोई दोराय नहीं है कि कोरोना का सबसे ज्यादा कहर अमेरिका को झेलना पड़ा है. इसी बीच अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से अपने सारे संबंध तोड़ने का फैसला लिया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसका ऐलान मीडिया से हो रही बातचीत के दौरान किया. ट्रंप ने कहा कि डब्ल्यूएचओ पर पूरी तरह से चीन का कंट्रोल है. ऐसे में अमेरिका उससे कोई भी रिश्ता नहीं रखना चाहता. ट्रंप ने आरोप लगाया कि डब्ल्यूएचओ कोरोना वायरस को शुरुआती स्तर पर रोकने में नाकाम रहा था.

महामारी के लिए चीन-डब्ल्यूएचओ दोषी

ट्रम्प ने व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में चल रहे अपने आक्रामक भाषण में कहा कि चीन को दुनिया को जवाब देना होगा. ट्रंप ने डब्लूएचओ और चीन को दुनियाभर में कोरोना से हुई मौतों का जिम्मेदार ठहराया है. ट्रंप ने कहा, “सालाना सिर्फ 40 मिलियन डॉलर (4 करोड़ डॉलर) की मदद देने के बावजूद चीन का डब्ल्यूएचओ पर पूरी तरह नियंत्रण है. दूसरी ओर अमेरिका इसके मुकाबले सालाना 45 करोड़ डॉलर की मदद दे रहा है. महामारी के दौरान क्योंकि वे जरूरी सुधार करने में नाकाम रहे हैं. इसलिए आज से हम डब्ल्यूएचओ से अपना संबंध खत्म करने जा रहे हैं”.

Anjali Kumari

Aspiring news reporter and radio jockey.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *