Happy Birthday Rekha: रेखा जो अमिताभ बच्चन के लिए लगाती हैं ”सिंदुर”

बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत और टैलेंटेड अभिनेत्रियों में से एक रेखा को आखिर कौन नहीं जनता. रेखा आज इंडस्ट्री का बड़ा नाम हैं लेकिन उनका निजी जीवन आज भी रहस्य बना हुआ है. माना जाता है कि जितनी शोहरत रेखा को अपने फिल्म करियर से मिली उतना ही दर्द निजी जिंदगी में मिला. आज उनके जन्मदिन पर कर रहे हैं उनके करियर और जिंदगी के बारे में बात.

बॉलीवुड की सदाबाहर अदाकारा रेखा आज अपना 66 वां जन्मदिन मना रही है. रेखा का असली नाम भानु रेखा है. उनकी पैदाइश  तमिल फ़िल्मों के सुपरस्टार जैमिनी गणेशन और पुष्पावली के घर 10 अक्टूबर 1954 को हुई थी. आज रेखा 66 की हो गयीं हैं लेकिन उनकी ख़ूबसूरती आज भी कुछ ऐसी है की मानो अभी उन्होंने जवानी में कदम रखा हो. रेखा के पिता ने परिवार को उस वक़्त छोड़ दिया था जब रेखा महज़ एक बच्ची थीं. उनके पिता ने तीन शादियां की थी. लेकिन आज भी वो अपने पिता को अपना हीरो मानती हैं. रेखा ने 13 साल की उम्र में पढाई छोड़ दी थी, उस वक़्त वो 9 वीं क्लास में थी. रेखा जब 6 महीने की थी तबसे उन्होंने फ़िल्मों में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम करना शुरू कर दिया था.

बतौर हीरोइन फ़िल्मों में रेखा का डेब्यू 1970 में रिलीज़ हुई फ़िल्म सावन भादों से हुआ. अब तक रेखा करीब 180 फ़िल्मों में अपने हुनर का जलवा बिख़ेर चुकी हैं.  रेखा का मनाना हैं कि फ़िल्मों में उनके किरदार में उन मरहलों का अक्स नज़र आता हैं जो उनकी निजी ज़िंदगी में गुज़र रहे होते हैं. रेखा की बात चल रहीं हो और उमराव जान का ज़िक्र न आये ये भला कैसे मुमकिन है. 1981 में रिलीज़ हुई फ़िल्म उमराव जान में रेखा ने इस ख़ूबसूरती से उस किरदार को निभाया है की अगर कोई उमराव जान होती तो वो भी शर्मा जाती.

रेखा और अमिताभ बच्चन का रिश्ता कुछ चांद और चांदनी जैसा है. एक की बात चल रही हो तो दूसरे का ज़िक्र खुद-ब-खुद आ जाता है. रेखा के मुताबिक उन्होंने बच्चन साहब से बहुत कुछ सीखा है. दोनों ने एकसाथ 10 से ज़्यादा फ़िल्मों में काम किया है. एक इंटरव्यू के दौरान रेखा ने बताया की उन्हें अमिताभ बच्चन से बेपनाह मोहब्बत है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दुनिया भर की सारी मोहब्बत को मिलकर जो निचोड़ निकलेगा वो अमिताभ से उतनी मोहब्बत करती हैं.

रेखा ने अपनी किताब ‘रेखा द अनटोल्ड’ स्टोरी में ये भी ज़िक्र किया है कि जया बच्चन को उनकी अमिताभ से नज़दीकियां बिलकुल पसंद नहीं थी और यही वजह थी कि सिलसिला के बाद दोनों किसी बड़े रोल में एक साथ नज़र नहीं आए. रेखा ने 1990 में मुकेश अग्रवाल नाम के एक उद्योगपति से शादी की थी, लेकिन शादी के कुछ ही दिन बाद उनके पति की मौत हो गई. रेखा ने  ‘घर’,  ‘ख़ूबसूरत’, ‘उमराव जान’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’,’सिलसिला’ और ‘ख़ून भरी मांग’ जैसी सैकड़ों फ़िल्मों को अपनी अदाकारी से  सजाया है. रेखा को अब तक तीन फ़िल्मफेयर और एक नेशनल अवार्ड मिल चुका है. 2010 में रेखा को पदम् श्री से नवाज़ा गया था. 
 

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *