5 जून को मनाया जाता है विश्व पर्यावरण दिवस, जानिए क्यों और कैसे मनाते है ये दिन

  • प्रधानमंत्री मोदी का लोगों से पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगाने का आग्रह
  • पर्यावरण दिवस पर ऑनलाइन चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित होगी

महात्मा गांधी जी ने कहा था “प्रकृति हर एक की जरूरत पूरी करने के लिए पर्याप्त है, परंतु एक की भी लालच पूरी करने को नहीं”. इसका यह अर्थ है कि प्रकृति व पर्यावरण हमारे लिए है. परंतु अपने फायदे के लिए पर्यावरण का दुरुपयोग करने वाले लोगों की इच्छा पर्यावरण पूरी नहीं कर सकता.

विश्व पर्यावरण दिवस ऐसा दिवस है जो पूरे विश्व में मनाया जाता है. इसके बारे सुना तो कई लोगों ने होगा, लेकिन यह बहुत कम लोग जानते है, कि इसे क्यों और कब मनाया जाता है. हमारे जीवन में पर्यावरण का विशेष महत्व है. यही हमें भोजन, पानी व हवा देता है, लेकिन मनुष्य ने पर्यावरण को क्षति पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.

विश्व पर्यावरण दिवस

संयुक्त राष्ट्र आम सभा की अपील पर हर वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. इसका उद्देश्य है कि हर किसी को स्वच्छ पर्यावरण मिले, आने वाली पीढ़ी को भी सुरक्षित पर्यावरण मिले सके. इस दिन कई ऐसी प्रतियोगिताएं जैसे पर्यावरण थीम पर पोस्टर मेकिंग, लेखन- भाषण प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, पेंटिंग, प्रदर्शिनी,  क्विज़, लेक्चर आदि का आयोजन किया जाता है. कोरोना वायरस महामारी के वजह से लगे लॉकडाउन के बीच इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय भी 1 जून से 5 जून तक पर्यावरण सप्ताह मनाने का फैसला लिया है.

ज्ञानवाणी रेडियो और पर्यावरण दिवस

पर्यावरण सप्ताह में अनेक तरह के प्रोग्राम चलाए जाते है. इसमे से ज्ञानवानी रेडियो ने अपने प्रोग्राम की लिस्ट जारी की है. इस सप्ताह के अंतर्गत SOITS की ओर से “ज्ञानवाणी रेडियो” पर स्पेशल इंटैरेक्टिव रेडियो कॉन्सिलिंग का प्रसारण किया जाएगा.

1 जून को दोपहर 3 से 3:30 बजे तक “पर्यावरण स्वास्थ्य में रसायनशास्त्र की भूमिका” का प्रसारण होगा. इसकी विशेषज्ञ होंगी प्रो बी रूपिनी. जो रेडियो पे बात करके लोगों को इस विषय मे जागरूक करेंगी. शाम 3:30 से 4 बजे तक “कोविद-19 के समय में अपशिष्ट प्रबंधन” पर कार्यक्रम होगा. इसकी विशेषज्ञ होंगी डॉ दीक्षा दवे.

2 जून को 3 बजे से 3:30 बजे तक प्रो शाची शाह रेडियो पर आएंगे. वे “विश्व पर्यावरण दिवस-2020: प्रकृति के साथ मानवीय संबंध पुनःसृजित करने का समय” पर चर्चा करेंगे. शाम 3:30 से 4 बजे तक “पर्यावरण संरक्षण के लिए बिश्नोई आंदोलन: पश्चिमी भारतीय इतिहास के संपोषणीय विकास के उदाहरण” पर कार्यक्रम होगा. इसके एक्सपर्ट होंगे प्रो नंदिनि सिन्हा कपूर.

3 जून को 3 बजे से 3:30 बजे तक डॉ वी वेंकट रमण का प्रोग्राम चलेगा. वे “जैवविवधता पर वायुमंडलीय बदलाव के असर” पर विद्यार्थियों से संवाद करेंगे. तथा 3:30 से 4 बजे तक की चर्चा का विषय रहेगा” वैश्वीकरण और पर्यावरण संपोषणीयता की संकल्पना”. इस कार्यक्रम के विशेषज्ञ होंगे- डॉ वाई एस सी खुमान.

इसी तरह 4 जून को शाम 6 बजे से 6:30 बजे तक पर्यावरण सप्ताह के अंतर्गत चर्चा होगी “पर्यावरण व लिंग” के विषय पर. इसके विशेषज्ञ होंगे डॉ शुभांगी वैद्य.

आखिरी दिन यानी 5 जून को दोपहर 3 बजे से 3:30 के प्रोग्राम का विषय है “वैश्वविक स्वास्थ्य में उभरती हुई प्रकृति: कुछ संचारी रोग”. कार्यक्रम के एक्सपर्ट होंगे डॉ सुष्मिता भास्कर.

ज्ञानवाणी एफएम पर कई और कार्यक्रम रोज़ाना प्रस्तुत किए जाते हैं. जिसके मूल में पर्यावरण संरक्षण होता है. साइंस प्रोग्राम उनमें से एक है जो रोजाना दोपहर 1:30 बजे प्रसारित किया जाता है. हमें पर्यावरण को लेकर जागरूक होने की आवश्यकता है. ज्ञानवाणी एफएम 105.6 मेगा हर्टज़ का अनुरोध है कि सभी लोग पर्यावरण दिवस पर लाइव कार्यक्रम सुने और मनाए पर्यावरण दिवस.

ऑनलाइन होंगे कार्यक्रम

कोरोना वायरस महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के वजह से कोई भी सार्वजनिक आयोजन करने की अनुमति नहीं है. स्वयं सेवी संस्था सेसा पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर ऑनलाइन प्रतियोगिता आयोजित करने जा रही है. इसकी जानकारी सेसा के महासचिव डॉ कौशिक मल्लिक ने दी है. उन्होने कहा कि, “इस दिन पर्यावरण जागरुकता अभियान के तहत पेंटिंग और कविता लेखन प्रतियोगिता का आयोजित की जाएंगी. सभी प्रतियोगिता ऑनलाइन अयोजित होंगी. वर्ष 2020 के विश्व पर्यावरण दिवस का थिम जैव विविधता संरक्षण रहेगा. इस प्रतियोगिता में क्लास सातवीं से 12वीं तक के छात्र-छात्राएं भाग ले सकेंगे”.

प्रतिभागियों को यह निर्देश दिया गया है कि, पांच जून को सादा कागज में वन/ जंगल या पर्यावरण विषय पर अपने मौलिक पेंटिंग. नारा या कविता हिंदी अथवा अंग्रेजी में लिख कर. उसी कागज के एक कोने पर अपना नाम, क्लास एवं स्कूल का नाम लिख , दोपहर 2 बजे तक वाटसएप के माध्यम से 9431138297 पर भेज सकते है. विजेताओं के नाम पुरस्कार के लिए छह जून को जारी किए जाएगा.

Anjali Kumari

Aspiring news reporter and radio jockey.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *