खांसी, जुकाम, बुखार की कितनी दवाएं बेची, केमिस्ट बताएंगे योगी सरकार को

लॉकडाउन के बावजूद देश भर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. सरकारें हर भरसक प्रयास कर रही हैं कि इस संकट से निपटा जा सके. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. सरकार ने मेडिकल स्टोरों से कहा है कि वो खांसी, जुकाम, बुखार या इनसे मिलते-जुलते लक्षण को लेकर दवा की बिक्री का रिकॉर्ड रखें. इसके अलावा हर दिन सरकार को बताएं कि कितने लोग ये दवाएं खरीदने आए. मेडिकल स्टोर संचालकों को हर दिन शाम 5 बजे तक यह रिकॉर्ड स्थानीय प्रशासन को देना होगा.

उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देश पर मेडिकल स्टोरों में ऐसे मरीज़ों का ब्यौरा दर्ज करने का काम शुरू कर दिया गया है, जो खांसी, जुकाम, बुखार या इनसे मिलते-जुलते लक्षण के साथ मेडिकल स्टोर में दवा लेने आते हैं. लखनऊ के सिविल अस्पताल के सामने एक मेडिकल स्टोर में इसके लिए बक़ायदा एक रजिस्टर मेंटेन किया गया है. हालांकि अभी तक कोई भी व्यक्ति ऐसा आया नहीं है. मेडिकल स्टोर संचालक रवि का कहना है कि कोरोना मरीज़ों की खोजबीन के मक़सद से ऐसा किया जाना प्रतीत होता है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कुल मरीजों का आंकड़ा 3902 पर पहुंच गया है. चौंकाने वाली बात यह है कि इसमें 1246 मामले तबलीगी जमात से जुड़े हैं. दिल्ली से लौटे मरकज के लोगों के संपर्क में जो लोग आए, वे संक्रमण का शिकार हो गए.

पूरे प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमण से 88 लोगों की मौत हो चुकी है. सबसे ज्यादा आगरा में 24, मेरठ में 14, मुरादाबाद में 9, कानपुर नगर में 6, फिरोजाबाद में 4, अलीगढ़ में 3, मथुरा में 4, झांसी में 2, गाजियाबाद में 2, नोएडा में 3, वाराणसी, संत कबीर नगर, हापुड़, ललितपुर, प्रयागराज, एटा, मैनपुरी, बिजनौर, कानपुर देहात, अमरोहा, बरेली बस्ती, बुलंदशहर, लखनऊ और श्रावस्ती में एक-एक मौत की घटनाएं शामिल हैं.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *