आरोग्य सेतु एप पर सरकार का चैलेंज, अगर खामी निकाली तो मिलेंगे 4 लाख

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमित मरीजों की गतिविधियों को जानने के लिए भारत सरकार ने आरोग्य सेतु एप को लॉन्च किया था. इस एप को लेकर लगातार कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं. विपक्ष भी इस एप पर निशाना साध रहा है. विपक्ष का आरोप है कि इस एप के जरिए लोगों पर जासूसी की जा रही है.

इस एप के जरिए लोगों की निजता के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा है. इन सभी आरोपों के बाद केंद्र सरकार ने साफ किया कि ये एप पूरी तरह से सुरक्षित है. इससे किसी व्यक्ति की निजता को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंच रहा है. इस एप का इस्तेमाल सिर्फ कोरोना संक्रमितों की पहचान करने के लिए किया जा रहा है.

इस एप के जरिए लोगों को सतर्क रहने में मदद मिल रही है. एप का प्रयोग आम जनता के साथ सभी सरकारी अधिकारियों और प्राइवेट कंपनी में कार्यरत लोगों को भी कहा गया है. सरकार इस एप्प के सोर्स को पब्लिक करेगी, लेकिन अभी केवल एंड्राइड वर्जन को ही पब्लिक किया है. सरकार ने कहा है कि iOS और KaiOS वर्जन के सोर्स आगे जारी किया जायेगा.

सरकार ने किया दावा

सरकार ने दावा किया है कि एप पूरी तरह से सुरक्षित है. सरकार ने एक बार फिर से एप पर संदेह करने वालों को चुनौती दी है. अगर कोई इस एप में खामी निकालता है तो सरकार उसे 4 लाख रूपये का इनाम देगी. सरकार ने इस इनाम की राशि को भी चार हिस्सों में बांटा है.

इसमें तीन भागों में सेफ्टी को लेकर सुझाव देने वालों को एक-एक लाख का इनाम मिलेगी. वहीं कोई इसके कोड में सुधार करता है तो उसे भी सरकार की तरफ से एक लाख का इनाम मिलेगा.

सरकार के पास ऐसे भेजें

अगर आपको भी इस एप में कोई खामी नजर आती है तो आप इसकी शिकायत इसके Security Vulnerability Report को  as-bugbounty@nic.in पर भेजना है. अगर आपकी रिपोर्ट सही साबित होती है तो आपको इनाम दिया जाएगा.

आपको बता दें कि आरोग्य सेतु एप को 2 अप्रैल 2020 को केंद्र सरकार ने लॉन्च किया था. इसे अबतक 100 मिलियन लोगों ने डाउनलोड किया है. इस एप की तारीफ खुद बिल गेट्स ने भी की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *