तिब्बती बौद्ध धर्म गुरु पंचेन लामा को रिहा करे चीनः अमेरिका

दुनिया भर को कोरोना वायरस की चपेट में लाने वाला चीन अब दूसरे मामलों में भी घिरने लगा है. दुनिया भर के देश अब चीन पर विभिन्न प्रकार से दबाव बनाने लगे हैं. इसी कड़ी में सुपर पावर अमेरिका ने चीन से अपील की है कि वह तिब्बती बौद्ध धर्म गुरु 11वें पंचेन लामा को रिहा करे. पंचेन लामा जब छह साल के थे, तभी चीनी प्राधिकारियों ने उन्हें कैद कर लिया था.

तिब्बत के गेझुन चोएक्यी न्यीमा को 1995 में 11वां पंचेन लामा घोषित किया गया था. तिब्बत में दलाई लामा के बाद पंचेन लामा बौद्ध धर्म से जुड़ा दूसरा सबसे बड़ा आध्यात्मिक पद है. इस घोषणा के कुछ दिन बाद ही न्यीमा लापता हो गए थे और वह दुनिया के सबसे कम उम्र के राजनीतिक कैदी बन गए थे.

अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के लिए अमेरिका के विशेष दूत सैम ब्रॉउनबैक ने हाल ही में एक सम्मलेन के दौरान संवाददाताओं से कहा, ”वह कहां हैं, इसके बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है और हम पंचेन लामा को रिहा करने का दबाव चीनी प्राधिकारियों पर डालते रहेंगे. साथ ही कहा कि दुनिया को बताया जाए कि वह कहां हैं.

ब्राउनबैक ने एक सवाल के जवाब में कहा कि चीन अगला दलाई लामा नियुक्त करने के अधिकार में बारे में लगातार बात करता रहता है, जबकि उसे ऐसा करने का अधिकार नहीं है. इसी बीच, अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर काम करने वाले अमेरिकी आयोग (यूएससीआईआरएफ) ने विदेश मंत्रालय से पुन: मांग की है कि वह तिब्बती मामले के विशेष समन्वयक के पद पर भर्ती करे.
    

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *